अंग्रेजी

मुख्‍य पृष्‍ठ


भारत सरकार द्वारा द्वितीय केंद्रीय वेतन आयोग की सिफारिश पर नवम्बर 1962 में केंद्रीय विद्यालयों (सेन्ट्रल स्कूल) की योजना अनुमोदित की गई थी। जिसमें यह सिफारिश की गई थी कि सरकार को स्थानांतरणीय केंद्रीय सरकार के कर्मचारियों के बच्चों के लिए अबाधित शिक्षा प्रदान करने के लिए एक योजना प्रारम्भ करनी चाहिए। परिणामस्वरूप शिक्षा मंत्रालय (वर्तमान में मानव संसाधन विकास मंत्रालय), भारत सरकार की एक इकाई के रूप में सेन्ट्रल स्कूल आर्गेनाइजेशन का प्रारम्भ किया गया।

प्रारम्भ में रक्षा कार्मिकों की सघनता वाले स्थानों पर चलाए जा रहे 20 रेजिमेंटल स्कूलों को शैक्षिक सत्र 1963-64 के दौरान सेंट्रल स्कूलों के रूप में लिया गया।

केंद्रीय विद्यालय संगठन का पंजीकरण सोसाइटी रजिस्ट्रेशन अधिनियम (1960 के XXI) के तहत 15 दिसम्बर 1965 को एक समिति के रूप में किया गया। संगठन का प्राथमिक उद्देश्य देशभर और विदेशों में स्थित सेन्ट्रल स्कूलों (केंद्रीय विद्यालयों) की स्थापना, उन्हें बनाए रखने, रख-रखाव, नियंत्रण और प्रबंध करना है। संगठन का पूर्ण रूप से वित्तपोषण भारत सरकार द्वारा किया जाता है। वर्तमान में इसके अधीन लगभग 1141 केंद्रीय विद्यालय जिसमें तीन विद्यालय विदेशों में स्थित है, 05 शिक्षा एवं प्रशिक्षण के आंचलिक संस्थान और पच्चीस क्षेत्रीय कार्यालय देश भर में फैले हुए हैं।

केंद्रीय विद्यालय संगठन द्वारा प्राचार्य, स्नात्तकोत्तर अध्यापक (पी जी टी), प्रशिक्षित स्नातक अध्यापक (टी जी टी), प्राथमिक अध्यापक (पी आर टी) और प्राथमिक अध्यापक (संगीत) जैसे शैक्षिक पदों पर भर्ती के लिए भारतीय नागरिकों से ऑनलाइन आवेदन आमंत्रित किए जाते हैं|

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

सूचनाएं

  • पंजीकरण प्रारम्भ करने की तिथि 27.09.2016(प्रात: 09.00 बजे से)

    पंजीकरण करने की अंतिम तिथि 17.10 2016 (2400 बजे तक)

    यदि ई-चालान के माध्‍यम से बैंक में शुल्‍क जमा करना है तो इसकी अतिंम तिथि 22 अक्‍टूबर 2016 है